Motivational Story in Hindi-हर बेटी की कहानी

0 981

दोस्तो शरद सर द्वारा लि्खी हुई Motivational Story in Hindi जो कि मोटीवेशन से भरी हुई यह कहानी आपकी जीवन में आने बाली मुश्किलों से उबरने में बहुत मदद करेगी ! इसे पढने के बाद अपनी राय अवश्य दें ! तो चलिये दोस्तो शुरु करते है शरद सर के शब्दों में –

राशि के ग्रेजुएशन का आज अंतिम पेपर था और वह इसे लेकर काफी डरी थी क्योंकि उसे पता था कि अब उसपर शादी का दबाव बनाया जाएगा जिसके लिए वह अभी तैयार नहीं है ! अभी 23 की ही तो है वो और उसे भी जिंदगी में कुछ करना है बस यही सब सोचते सोचते वह घर पहुँच गयी

और जो सोचा था वही हुआ ! मम्मी ने शादी के बारे में चर्चा शुरू कर दी और जवाब में राशि ने कहा कि वह अभी 3 -4 साल शादी के लिए तैयार नहीं है ! बेटी चार लोग क्या कहेंगे ? मम्मी का यह परमानेंट सा सवाल सुनकर राशि झल्ला उठी ! भाड़ में जाएं वो चार लोग , क्या उनके पास मुझे देखने के अलावा कोई काम नहीं ? जब देखो चार लोग , चार लोग , चार लोग ! ये मेरी जिंदगी है और इसे मैं अपनी शर्तों पर जीना चाहती हूँ और अगर आप लोगों ने शादी के लिए जबरदस्ती की तो मैं पुलिस के पास जाउंगी !

राशि ने गुस्से में यह सब बोल तो दिया था लेकिन उसे पता था कि उसमें हिम्मत नहीं कि अपने ही परिवार के खिलाफ वो पुलिस के पास जा सके ! खैर दिन बीत गया और राशि आज अपने कमरे से बाहर नहीं आयी और ना ही किसी से बात की ! मम्मी पापा दोनों परेशान थे।

Motivational Story in Hindi
Motivational Story in Hindi

लेकिन समाज और बेटी की इस जंग में बेटी जीत गयी ! पापा ने उसे एक साल का टाइम दिया और इस चेतावनी के साथ कि इसके बाद उसकी कोई भी बात नहीं सुनी जायेगी ! राशि खुश तो थी लेकिन परेशान भी कि किसी भी तरह उसे एक साल में स्टैंड होना है ! राशि कुछ करना तो चाहती थी पर क्या ? , यह उसे नहीं समझ आ रहा था !

राशि ने अपनी पॉकेट मनी से ब्यूटीशियन का 3 माह का शार्ट टर्म कोर्स किया और फिर वही पर प्रैक्टिस करने लगी ताकि वह अपने हुनर को और तराश सके ! उसे नया होने की वजह से पैसे कम मिलते थे लेकिन यह काम पैसों से ज्यादा मायने रखता था उसे पता था कि यही वो नाव है जो उसे जिंदगी का दरिया पार करा सकती है ! 5 माह बीत गए अब तक राशि ने हासिल किया था एक हुनर और थोड़े से पैसे ! वह अब अपना ब्यूटीपार्लर खोलना चाहती थी लेकिन यह उसके लिए यह पैसे काफी नहीं थे !

घर वालों से तो उम्मीद नहीं कर सकते और दोस्तों के पास खुद अभी कोई आमदनी नहीं है फिर कैसे और कहाँ से लाएगी इतने पैसे ? , पर कहते हाँ ना कि अगर चलना शुरू कर दें तो रास्ते खुद ब खुद नजर आने लगते हैं ! राशि को भी एक रास्ता नजर आया बैंक का , उसने बैंकों की बहुत सी कमिया सुनी थी पर यही वो आखिरी उम्मीद थी इसलिए राशि के कदम रुक नहीं पाए और दूसरे दिन ही सुबह बैंक पहुँच गयी लेकिन एक बार फिर उसे निराशा झेलनी पड़ी ! बैंक मैनेजर ने कहा कि उनका लोन टारगेट पूरा हो गया है राशि को किसी दूसरे बैंक में संपर्क करना चाहिए !

राशि कि हिम्मत अब जवाब दे रही थी , हौसले पूरी तरह परास्त हो चुके थे ! वह चाहती थी कि एक बार घर वाले उसके सर में हाथ रखकर बस इतना ही कह दें कि बेटी चिंता मत करो सब ठीक हो जाएगा ! घर पहुँचते ही उसे फिर मम्मी के सवालों का सामना करना पड़ा राशि ने गुस्से से जवाब तो दिया लेकिन वह अपने आसुंओं को नहीं रोक पायी

और उसकी आखें छलक गयीं , मां की ममता से ज्यादा निर्मल कुछ नहीं होता …मां ने आगे बढ़कर उसे सँभालने की नाकाम कोशिस की ! राशि ने उसी हालत में हर वो चीज उन्हें बता डाली जिससे इन दिनों वह गुजर रही थी उसका रोना और तेज होता जा रहा था ….और उसे इस हालत में देखकर मां भी अपने आसुंओं को नहीं रोक पायीं ! पापा ने उसे ऐसी हालत में कभी नहीं देखा था

हमेशा खुशमिजाज रहने वाली उनकी बेटी आज इतना दर्द लेकर जी रही है और ये भी सिर्फ उनकी वजह से ……आखिर थी तो अपनी ही बेटी ना ? ! बिना कुछ कहे पापा घर से चले गए और यहाँ मां बेटी भी अपने कामों में लग गयीं ! शाम को जब पापा घर पर आये तो उन्होंने राशि को अपने पास बुलाया और उसके हाथ में 20000 रुपये देते हुए बोले ब्याज सहित वापस लूंगा ! राशि फिर एकबार पापा से लिपटकर रोने लगी , पापा की आँखे भी भर आयी थी ! पिता एक कवच होता है अपने बच्चों का जो उन्हें हर मुश्किलों से बचाता है पर दिल तो आखिर उसके पास भी होता है ना ?

राशि ने अपना ब्यूटीपार्लर शुरू किया सिर्फ दिमाक नहीं बल्कि भावनाओं का भी इस्तेमाल उसने बिजनेस में किया ! मार्केटिंग , एडवर्टाइज़्मेंट , कम्पटीशन और इनोवेशन का पूरा ख्याल रखा ! जल्दी ही उसे इनकम होने लगी और दूसरे महीने के अंत में ही उसने 21000 रुपये पापा को दिए और बता भी दिया कि 1000 ब्याज के साथ है ! राशि इसके सहारे ही एक लबा सफर तय करना चाहती थी इसीलिए उसने हमेशा नया करने कि कोशिश की !

धीरे धीरे वह न्यूज़ पेपर्स में भी ब्यूटी टिप्स देने लगी जिससे उसकी शोहरत और businees दोनों बढ़ते गए ! उसके आर्टिकल्स सारा शहर पढता था और वो चार लोग भी ! आज राशि उस मुकाम पर थी जो उसे चाहिए था लेकिन उसका सफर जारी था शायद उसे कामयाबी एक और नया इतिहास लिखना था !

Motivational Story in Hindi

दोस्तों इस Motivational Story से हम यह कह सकते है कि जिंदगी उतनी ही नहीं होती जितनी हमे दिखाई देती है हम चलना शुरू करते हैं तो आगे के रास्ते मिलने लगते हैं लेकिन इसके लिए जरुरी है की हम चलना तो शुरू करें !

आपका अपना गुरु शरद ” निःशब्द “

दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. जो स्टूडेंट्स 🔜 SSC-CGL/UPSSSC/Railway/Bank आदि एकदिवसीय परीक्षा की अध्ययन सामाग्री प्राप्त करना चाहते है वो जल्दी से इस चैनल में जॉइन 🔔 कर ले और अपनी सुझाव एवं रेटिंग 👇 अवश्य दें

»» Join Telegram «« 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More