1000+ Chemistry GK in Hindi | Chemistry Most Important Facts in Hindi

0 1,501

Chemistry General Knowledge GK हिन्दी में – दोस्तों आज Sarkari Naukri Help की टीम आप सभी छात्रों के लिए Science GK in Hindi Objective  सेसंबन्धित 1000+ Chemistry GK in Hindi लेकर आये है।इस लेख में रसायन विज्ञान से संबंधित महत्वपूर्ण परीक्षा उपयोगी तथ्य जो कि किसी भी एक दिवसीय में पूछे जा चुके है। जीके हर सरकारी परीक्षा में एक महत्वपूर्ण खंड है लेकिन यह याद रखना बहुत कठिन है। यह आपको न सिर्फ प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे आईएएस, पीएससी, एसएससी, रेलवे आदि में मददगार साबित होगा बल्कि शैक्षणिक परीक्षाओं में भी सहयोगी होगा। ये One liner Chemistry General knowledge Questions and answers in Hindi for Competitive Examination आप सब छात्रों के लिए काफी उपयोगी साबित होगी।

Also Read : Chhattisgarh CG General Knowledge in Hindi
Also Read : Science GK Question on Nervous System

1000+ रसायन विज्ञान से संबंधित महत्वपूर्ण परीक्षा उपयोगी तथ्य – Science GK in Hindi

  • पानी आयनिक लवण का सुविलायक है क्योकि उसका द्विध्रुव आघुर्ण अधिक है।
  • एक्स रे की खोज डब्ल्यू के रोन्टजन ने की थी ।
  • माणिक्य तथा कोरन्डम एल्यूमिनियम के अयस्क होते है।
  • बालू सिलिकन का अयस्क होता है।
  • संगमरमर कैल्सियम से प्राप्त होता है।
  • टाइटेनियम डाईआॅक्साइड का प्रयोग सफेद पेंट बनाने के लिए किया जाता है।
  • सोडियम सिलिकेट का प्रयोग शीशा बनाने में किया जाता है।
  • पोटेशियम सल्फेट का प्रयोग क्रत्रिम उर्वरक बनाने मे किया जाता है।

  • पैटंोलियम परिशोधन के पश्चात पैराफिन प्राप्त होता है। जिसे व्यापारिक वैसलीन भी कहा जाता है।
  • हाइडंोकार्बन का प्राकृतिक स्त्रोत कच्चा तेल हैै।
  • तडि.चालक लोहे से निर्मित होते है।
  • रम नामक शराब शीरा से बनायी जाती है।
  • कैप्सूल का आवरण स्टार्च का बना होता है।
  • सिरका एसिटिक अम्ल का जलीय विलयन है ।
  • सोडियम क्लोराइड लवणो का सागरीय जल की लवणता में अधिकतम योगदान होता है ।
  • लैक्टिक अम्ल, दूध में पाया जाता है।
  • साइटिंक अम्ल , नीबू मंे पाया जाता है।
  • ब्यूटाइरिक अम्ल, खराब मक्खन में पाया जाता है।

Also Read : Download Biology GK Hindi PDF

  • जल में अमोनिया आसानी से घुल जाता है।
  • भारी जल एक प्रकार का मन्दक है।
  • कठोर जल साबून से कपडे धोने और बाॅयलर्स में प्रयोग के लिये उपयुक्त नही होता है।
  • फोटोग्राफी रंगीन फोटो फिल्म को साफ करने में आक्जैलिक अम्ल प्रयोग किया जाता है।
  • पानी का भारीपन सोडियम और मैग्निशियम के सिलिकेटो के कारण होता है।
  • लहसुन और प्याज में आने वाली तीक्ष्ण गन्ध उनमे पौटेशियम की उपस्थिति के कारण आती है।
  • ब्लीचिंग पाउडर में क्लोरीन तथा हाइपो में सोडियम होता है।

  • लोहे के साथ क्रोमियम मिलाने पर उसमें उच्चताप का प्रतिरोध करने की क्षमता और उच्च कठोरता एवं अपघर्षण प्रतिरोधकता आ जाती है।
  • पैटंोल इंजन में अपस्फोटन या नोदन को कम करने के लिए पैटंोल में टैटंा एथिल लेड को मिलाया जाता है।
  • प्राकृतिक रबड आइसोप्रीन का बहुलक है। प्राकृतिक रबड लैटेक्स दूध के रूप में पेडों से निकाली जाती है।
  • स्टेनलेस स्टील बनाने के लिए निकिल और क्रोमियम को प्रयोग किया जाता है।
  • कच्चा लोहा, मृदुइस्पात, ढलवा लोहा में कार्बन तत्व अवरोही क्रम में उपस्थित होते हंै।
  • कांसा, तांबा एवं टिन का मिश्रण है।

  • अमोनिया एक रासायनिक यौगिक है।
  • टैफलाॅन तथा डेक्रॅान, प्लास्टिक के वहुलक है
  • नियोप्रीन संश्लेषित रबड है।
  • पाॅलिथीन , पाॅलिएथिलीन का बहुलक है
  • कोयला तथा हाइडंोकार्बन को दहन करने पर उत्पन्न प्रदुषण कार्बनमोनोआॅक्साइड तथा कार्बनडाईआॅक्साइड के मिश्रण होता है।
  • प्राकृतिक रबड को अधिक मजबूत तथा प्रत्यास्थ बनानेे के लिए उसमें सल्फर मिलाया जाता है।
  • कैल्शियम सल्फेट उर्वरक नही है।

  • लोहा पारे के साथ मिलकर अमलगम मिश्रधातु नही बनाता है इसलिए पारे को लोहे के पात्र में रखा जाता है। शेष सभी धातुएं पारे के साथ अमलगम मिश्रधातु बनाती है।
  • हैलोजन गैसों में सबसे अभिक्रियाशील गैस फ्लोरीन होती है।
  • आॅक्सीजन एक अनुचुम्बकीय तत्व है।
  • हाइडंोजन का ईधनमान सर्वाधिक होता है।
  • स्टंीट लाइट के वल्व में सोडियम का प्रयोग होता है।
  • हीमोग्लोबीन में आयरन, क्लोरोफिल में मैग्निशियम, पीतल में ताॅबा एवं विटामिन बी1 में कोबाल्ट उपस्थित होता है।
  • प्लेटिनम सबसे कठोर धातु होती है।

Also Read: Chemistry Objective Questions and Answers PDF

  • हीरा स्वयं में एक मूल तत्व होता है।
  • पेंसिल में लिखने में प्रयोग होने वाला लेड, ग्रेफाइट का बना होता है।
  • फ्यूज में प्रयोग होने वाला तार उच्च प्रतिरोध शक्ति तथा निम्न गलनांक का होता है।
  • जस्ता एक विद्युत अचुम्बकीय पदार्थ है।
  • पनीर एक जैल का उदाहरण है।
  • फलों के रस में मैलिक अम्ल पाया जाता है।
  • अम्लीय स्त्रवण जठर की विशिष्ठता है।
  • आॅक्जैलिक अम्ल का प्रयोग दाग निकालने में किया जाता है।
  • रासानियक तत्व के अणु के सन्दर्भ में चुम्बकिय क्वाण्टम संख्या का सम्बंध अभिविन्यास से है।
  • जर्मन सिल्वर में निकिल , क्रोमियम और ताॅबे का मिश्रण होता है ।
  • वाहनों से निकलने वाले धुऐं में सीसा एक प्रमुख हानिकारक तत्व है इससे मानसिक रोग होता है।

  • हीलियम गैस आॅक्सीजन से प्रतिक्रिया नही करती है।
  • अग्निशमन यन्त्र में कार्वनडाई आॅक्साइड गैस का प्रयोग किया जाता है।
  • लोहे पर कलई चढाने के लिए जस्ते का प्रयोग किया जाता है इस प्रक्रिया को गैल्वनाइजेशन यशदलेपन कहते है।
  • आयनिक यौगिक एल्कोहल में अविलेय होते है।
  • एल्युमिनियम चुम्बक के द्वारा आकर्षित नही होती है।
  • पृथ्वी पर लगभग 100 प्रकार के रासायनिक तत्व पाये जाते है।
  • सर्वाधिक स्थायी तत्व आॅक्सीजन है।
  • सोडियम तत्व जल से हल्का होता है।

  • नाइक्रोम एक ऐसा पदार्थ है जो बहुत कठोर तथा बहुत तन्य है।
  • बोरोन कार्बाइड व्यापक रूप से हीरे के पश्चात सबसे कठोर पदार्थ के रूप में प्रयुक्त होता है।
  • एसिटिक एसिड सिरका बनाने के लिए शीरा अति उत्तम कच्चा माल है।
  • फ्लिन्ट काॅच का उपयोग कैमरा एवं दूरबीन के लैंस व विधुत बल्ब, पाइरेक्स काॅच का उपयोग प्रयोगशाला के उपकरण आदि, क्रुक्स काॅच का उपयोग धूप चश्मों के लेंस तथा पोटाश काॅच का उपयोग टयूब लाइट, बोतलें व दैनिक प्रयोग के बर्तन में किया जाता है।
  • ब्लीचिंग चूर्ण का प्रयोग मुख्य रूप से जल को विसंक्रमित करने के लिए होता है।
  • अम्ल अथवा क्षार के परीक्षण के लिए लिटमस पेपर का प्रयोग किया जाता है जब लिटमस पेपर लाल से नीला हो जाता है तो क्षार होता है एवं नीले से लाल हो जाता है तो अम्ल होता है।
  • एप्सम लवण का प्रयोग सारक शोधक के रूप में होता है।
  • नीला थोथा को काॅपर सल्फेट कहते है।
  • एप्सम साॅल्ट को मैग्निशियम सल्फेट कहते है।
  • बेकिंग सोडा को सोडियम बाई कार्बोनेट कहते है।
  • कास्टिक सोडा को सोडियम हाइडंाक्साॅइड कहते है।
  • एसिटिलीन का प्रयोग बैल्डिंग उद्योग तथा प्लास्टिक निर्माण करने में प्रयुक्त की जाती है इसका प्रयोग फलों को सुरक्षित रखने में किया जाता है
  • एथिलीन का प्रयोग क्रत्रिम रूप से फलोें को पकाने के लिए किया जाता है।
  • सामान्य टयूब लाइटोें में नियाॅन के साथ सोडियम वाष्प होती है।
  • एल0 पी0 जी0 में मुख्यतः ब्यूटेन गैस होती है।
  • नाइटंोक्लोरोफाॅर्म विस्फोटक नही है।
  • आर्सेनिक-74 टयूमर, केाबाल्ट-60 कैंसर , आयेाडिन-31 थायराॅयड ग्रन्थि की सक्रियता, सोडियम-24 रक्त व्यतिक्रम में प्रयोग किया जाता है।

  • चूनापत्थर का रासायनिक नाम कैल्सियम कार्बोनेट है।
  • आॅक्सीजन तथा भारी हाइडंोजन के यौगिक को गुरूजल कहते है।
  • हाइपो जो फोटोग्राफी मंे प्रयोग किया जाता है का रासायनिक नाम है सोडियम थायोसल्फेट है ।
  • मैग्निशियम हाइडंोक्साइड को मिल्क आॅफ मैग्निशिया कहते है।
  • चेचक की खोज एडवर्ड जेनर ने की थी ।

Also Read: Download Biology Notes for SSC PDF in Hindi

  • पेनिसिलीन की खोज अलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने की थी ।
  • टाॅर्चलाइट , विधुत क्षुरक शेवर आदि साधनों में प्रयुक्त बैटरी में सीसा परआॅक्साइड और सीसा इलैक्टंोड के रूप में प्रयुक्त होता है।
  • कार्बनडाइआॅक्साइड को शुष्क बर्फ भी कहा जाता है।
  • कैंसर के उपचार में कोबाल्ट-60 का प्रयोग किया जाता है।
  • रक्त रोगों के उपचार को ‘‘ जीन थैरपी ‘‘ कहा जाता है।
  • क्रायोजेनिक्स अतिनिम्नताप है इसे परमताप भी कहा जाता है।
  • आर0डी0एक्स0 एक विस्फोटक है।
  • खाद्य पदार्थ के परिरक्षण हेतु बेंजोइक अम्ल प्रयोग किया जाता है।
  • फ्लोरोसेन्ट टयूब प्रतिदिप्ति बल्ब में नियाॅन गैस भरी जाती है।
  • भारत में विकसित स्टेनलैस स्टील में मैंगनीज और क्रोमियम होता है।
  • क्वार्टज कैल्सियम सिलिकेट का बना होता है इसमें सिलिकाॅन और आॅक्सीजन भी पाये जाते है।
  • प्रथम विश्व युद्व में मस्टर्ड गैस का प्रयोग एक रासायनिक आयुध के रूप में किया गया था ।
  • हाइडंोजन सबसे अच्छा ईधन है क्याकि इसका उष्मीय मान सर्वाधिक होता है एवं इसका अवशेष भी सबसे कम होता है परिणामस्वरूप ये सबसे कम पर्यावरणीय प्रदूषण करता है।

  • अधूरे प्रज्वलन के कारण मोटर कार एवं सिगरेट से निकलने वाली रंगहीन गैस कार्बनमोनेाआक्साइड होती है।
  • सेप्टिक टैंक से निकलने वाली गैसेां के मिश्रण में मुख्यतः अमोनिया गैस होती है।
  • तापमान बढाने से द्रवों की श्यानता घटती है एवं तापमान बढाने से गैसों की श्यानता बढती है।
  • ग्लोबल वार्मिंग के लिए कार्बनडाइआॅक्साइड गैस अधिक जिम्मेदार है।
  • शीतल पेयों , जैसे कोला में , पर्याप्त मात्रा कैफ ीन की होती है।
  • ध्वनि के पुनरूत्पाद के लिए एक सीडी आडियो प्लेयर में लेसर बीम को प्रयोग किया जाता है।
  • एक साधारण बिजली के बल्ब का अपेक्षाक्रत अल्पजीवन होता है क्यांेकि फिलामेंट का तार एकसमान नही होता तथा बल्ब पूर्ण रूप से निर्वातित नही किया जा सकता ।
  • एटंोपीन औषधि का उपयोग ह॰य की तकलीफ कम करने मंे किया जाता है, ईथर का प्रयोग स्थानीयसंज्ञाहरण में प्रयोग होता है , नाइटोग्लिसीरीन तार विस्फारण में प्रयोग की जाती है, पाइरेथ्रियन का उपयोग मच्छरों के नियन्त्रण के लिए किया जाता है ।
  • काॅच पर हीरे तथा हाइडंोक्लोरिक अम्ल से खरोंचा या लिखा जा सकता है।
  • बुलेट प्रूफ पदार्थ बनाने के लिए पाॅलिकार्बोनेटस के बहुलक प्रयुक्त होते है।
  • बादलों के वायुमण्डल में तैरने का कारण उनका कम घनत्व का होना है।
  • ठण्डे देशों में पारे के स्थान पर एल्कोहल को तापमापी द्रव के रूप में वरियता दी जाती है क्योकि एल्कोहल का हिमांक पारे से कम होता है।
  • कैल्सियम कार्बाेनेट दन्त पेस्ट का एक अवयव होता है।
  • प्रकाश-रसायनी धूम – कोहरे के बनने के समय नाइटंोजन आॅक्साइड उत्पन्न होती है।
  • कैल्सियम सल्फेट की उपस्थिति जल को कठोर बना देती है और यह पीने योग्य नही होता है।
  • क्लोरोफोर्म गैस प्रकाश की उपस्थिति में जहरीली फाॅस्जीन गैस बन जाती है।
  • रक्त का पी0एच0 मान 7.4 होता है ।

  • रसायन प्रयोगशाला में उपयोग में लाया जाने वाला लिटमस शैक से प्राप्त होता है।
  • यूरिया – अमोनियम नाइटंेट – अमोनियम क्लोराइड – अमोनियम सल्फेट में नाइटंोजन की मात्रा घटते क्रम में है।
  • पोर्टलैण्ड सीमंेट का अविष्कार जोसफ अस्पडीन ने किया था ।
  • क्लोरोपिक्रिन को अश्रु गैस कहते है।
  • अम्लीय बर्षा के लिए सल्फर डाईआॅक्साइड गैस उत्तरदायी होती है।
  • वायु को सबसे अधिक प्रदूषित कार्बनमोनोक्साइड करता है कार्बनमोनोक्साइड हीमोग्लोबिन के साथ मिलकर उसे आॅक्सीजन अवशोषण के अयोग्य बनाती है। इसलिये इसका वातावरण में इसका पाया जाना खतरनाक होता है।
  • सभी गैसें निम्न दाब और उच्च ताप पर आदर्श गैस के रूप में व्यवहार करती है।
  • रबड को कठोर बनाने के लिए उसमें कार्बन मिलाया जाता है। जिससे टयूब टायर बनाये जाते है।
  • बेरियम तथा स्टंाॅन्शियम प्रकृति में मुक्त रूप में नही पाए जाते है।
  • सोडियम क्लोराइड की उपस्थिति में प्लास्टर आॅफ पेरिस की स्थापन दर में वृद्वि होती है।
  • सीमंेट में जिप्सम का योग उसकी स्थापन दर को मंद करने के लिए किया जाता है।
  • नियोप्रीन जोकि एक संश्लिष्ट रबड है जो टू-क्लोरोब्यूटाडीन से बनती है।
  • सिलिकन चतु-संयोजकता रखता है।
  • लाल फास्फोरस एक मोमी ठोस है जबकि सफेद फास्फोरस अक्रिस्टलीय है लाल फास्फोरस गन्धहीन होता है जबकि सफेद फास्फोरस लहसुन गंध देता है।
  • अमोनियम सल्फेट एक उर्वरक है, सोडियम परआयोडेट एक आक्सीकारक है, मैग्नीज डाइआक्साॅइड एक शुष्क सेल है।
  • सिंदूर में पारा मिला होता है , चिली साल्टपीटर सोडियम से सम्बधित है, फ्लोरस्पार कैल्सियम से सम्बधित है, कैलामाइन जिंक से सम्बधित है।

  • हाइडंोजन ब्रम्हाण्ड में प्रचुरता से पाया जाने वाला तत्व है , आॅक्सीजन पृथ्वी में प्रचुरता से पाया जाने वाला तत्व है नाइटंोजन वायुमण्डल में प्रचुरता से पाया जाने वाला तत्व है।
  • नाइटंोजन वनस्पति एवं जन्तु प्रोटीन का मुख्य घटक है ।
  • क्रिस्टलीकरण के द्वारा ठोस का शुद्वीकरण करके पुनः ठोस बना लिया जाता है। , उध्र्वपातन के द्वारा कपूर को अलग किया जाता है, आसवन विधी के द्वारा द्रव का शुद्वीकरण किया जाता है, क्रोमेटोग्राफी में अधिशोषण प्रक्रिया बनायी जाती है।
  • मैग्निशियम का अयस्क डोलोमाइट है तथा कैल्सियम का अयस्क लाइमस्टोन है।
  • आॅक्सीजन की अनुपस्थिति में होने वाली क्रिया को पायरोलाइसिस कहते है।
  • ठोस ईधन का गैसीय ऊर्जा संवाहक में स्थानान्तरण को गैसीयकरण कहते है।
  • ठोस कार्बनिक वज्र्य का द्रव ईधन में सीधा स्थानान्तरण बायोगैस कहलाता है।
  • गंधक अम्ल का प्रयोग उर्वरकों के निमार्ण में, रंग बनाने वाले पदार्थो के निमार्ण में, वर्णक एवं पेंटस के निमार्ण में, बैटरियों के निमार्ण में होता है।
  • शरीर में सोडियम तथा पोटैशियम आयनों की भूमिका परासरण दाब केा संतुलित करना है।
  • ग्रेफाइट विद्युत का सुचालक एवं कार्बन का अपररूप है यह मन्दक के रूप में भी प्रयुक्त होता है।
  • यूरेनियम-235 विखण्डनीय पदार्थ के रूप में प्रयुक्त होता है।
  • एन्जाइम कार्बोहाइडंेट होते है एवं जैव रासायनिक उत्प्रेरक है ।
  • लाइपेस एन्जाइम टंांसग्लिसराइडों को वसा अम्लों तथा ग्लिसरोल में अपघटित कर देता है।
  • बिटामिन बी12 में परमाणु धातु उपस्थित होती है, जिसे केाबाल्ट कहते है।
  • साबून को बनाने के लिए कास्टिक सोडा को अलसी के तेल के साथ गर्म किया जाता है।
  • साधारण नमक एक ऐसा पदार्थ है जो पिघली हुई अवस्था में विद्युत धारा का चालन कर सकता है।

  • फास्फोरस का सबसे अधिक अभिक्रियाशील रूप पीला फास्फोरस है जो हवा में स्वतः ही जल उठता है इसलिए इसे जल में डुबो कर रखते है।
  • अक्रिय गैसों की संयोजकता शून्य होती है, ये एक – परमाणुक होती है
  • सोडियम तथा एल्यूमीनिय के जलयोजित सिलिकेटों का रासायनिक नाम परम्यूटिट होता है।
  • गोल्ड सबसे अधिक आद्यातवर्धनीय धातु है ।
  • आॅक्सीजन की उपस्थिति में होने वाली क्रिया दहन कहलाती है।
  • वायुमण्डल में नाइटंोजन – आक्सीजन – आर्गन – कार्बनडाईआक्साइड गैसें इस क्रम में पायी जाती है।
  • नोबल गैसंे एक परमाणवीय रंगहीन एवं गन्धहीन तथा अत्यन्त रासायनिक क्रियाशील होती है।
  • कपडें धोने की प्रक्रिया में साबुन जल की धुलाई क्षमता में वृद्वि करता है।
  • जाॅन डाल्टन ने परमाणु सिद्वान्त का प्रतिपादन किया था ।
  • प्रयोगशाला में प्रथम संश्लेषित कार्बनिक यौगिक यूरिया है।
  • साडियम पामीटेड एक साबून है, गैलेना एक अयस्क है, एन0पी0के0 एक उर्वरक है, सेलूलोज एक प्राकृतिक पाॅलीमर है ।
  • जल का क्वथनांक उसके समान आकार तथा अणुभार के अन्य द्रवों की अपेक्षा अधिक होता है क्योकि वह अन्तरा-आणविक हाइडंोजन बन्ध उपस्थित होता है।
  • रबड के टायरों में पूरक फिलर के रूप में कार्बन ब्लैक प्रयुक्त होता है।
  • हमारे पृथ्वी का भू-भाग ग्रीन हाउस के नाभिकीय परिक्षण के प्रभाव से गर्म होता है।
  • क्रैकिंग पैटंोलियम से सम्बन्धित हंै, प्रगलन काॅपर से सम्बन्धित है, हाइडंोजनीकरण खाद्य वसा से सम्बन्धित है।
  • दूध पायस होता है।
  • केन्द्रिय औष् ाधि शोध संस्थान लखनऊ में स्थित है।

  • रासायनिक रूप से इक्षु शर्करा सुक्रोज को कहते है, शर्करा विलयन के किण्वन में कार्बनडाइआॅक्साइड गैस उत्पन्न होती है ।
  • ग्लूकोज के किण्वन में अन्त में कार्बनडाइआॅक्साइड तथा जल प्राप्त होता है।
  • उर्वरकों में क्लोरीन उपस्थित नही होता है।
  • सोने के आभूषण बनाने के लिए उसमें काॅपर मिलायी जाती है।
  • अधिकतम संख्या में यौगिक हाइडंोजन तत्व बनाता है।
  • वाटरवक्र्स के द्वारा जिस जल की आपूर्ति होती है उसे क्लोरीनीकरण के द्वारा शुद्व करते है।
  • इमली में टार्टरिक अम्ल होता है।
  • सोलर कुकर को गर्म करने वाली सूर्य की किरण को इन्फ्रारेड किरण कहते है।
  • आयरन पायराइटस केा झुठा सोना कहते है।
  • पेटंोल, ऐल्केन का मिश्रण होता है।
  • सिलिका जैल नमी को सोख लेता है, इसलिए दवाओं की बोतलों में एक छोटे पैक में सिलिका जैल भरकर रखा जाता है।
  • वह प्रक्रम जिसमें ऊष्मा परिवर्तन नही होता ,रूद्वोष्म प्रक ्रम कहलाता है।
  • किसी आदर्श गैस की आन्तरिक ऊर्जा उसके आयतन पर निर्भर करती है।
  • आवर्तसारणी में तत्वों केा बढती हुयी परमाणु संख्या में रखा गया है।
  • आधुनिक आवर्तसारणी में अधातुओं केा दाहिनी ओर रखा गया है।
  • ‘ग्रीन हाउस प्रभाव‘ यह नाम स्वाण्टे आरहीनियस ने दिया था
  • कैथोड किरणें , इलैक्टंोनों की किरण पुंज है ।
  • आरयन को सबसे शुद्व रूप पिटवाँ आयरन होता है।
  • क्लोरोफिल की संरचना में मैग्नीशियम सम्मिलित होता है ।

  • फलों के परिरक्षण के लिए चीनी का घोल प्रयोग में लाया जाता है क्योकि इससे नमी अवशोषित हो जाती है जिससे सूक्ष्म जीवों की वृद्वि रूक जाती है।
  • आर्सेनिक एक उपधातु है।
  • जिर्कोनियम एवं सिलिकन अर्धचालक हैं।
  • तत्वों के किसी वर्ग में जैसे – जैसे परमाणु भार बढता है इलैक्टंाॅन बन्धुता कम होती हैै।
  • मेथेन , ऐथेन , प्रोपेन एवं ब्यूटेन में हाइडंोकार्बन के अणुभार बढते क्रम में अवस्थित है।
  • सबसे हल्की धातु लीथियम होती है।
  • किसी तत्व के दो इलैक्टंोनो के लिए सभी क्वाण्टम संख्याऐं समान नही हो सकती है।
  • गुणात्मक समानुपात का नियम जाॅन डाल्टन द्वारा खोजा गया था ।
  • अनिश्चितता के सिद्वान्त का प्रतिपादन हाइजेनबर्ग ने किया था ।
  • इलैक्टंान तब तक युग्मित नही होते, जबतक कि उनके लिए प्राप्त रिक्त कक्ष समाप्त ना हो जायें यह सिद्वान्त हुण्ड का नियम कहलाता हैं।
  • इलैक्टंान की तरंग प्रकृति सर्वप्रथम दी0 ब्राॅग्ली ने दी थी ।
  • एक इलैक्टंान की सही स्थिति तथा ऊर्जा के साथ निर्धारण असम्भव है इसे ही हाइजेन बर्ग का अनिश्चितता का सिद्वान्त कहते है।
  • हाइडंोजन का परमाणु क्रमांक व परमाणुभार समान होता है ।
  • 180 ग्राम जल में जल के 10 मोल होते है।
  • आइसोटोन में न्यूटंोनों की संख्या समान होती हैं।
  • जल का शुद्वतम रूप आसुत जल होता है।
  • क्लोरोमाइसिटिन एक ऐन्टीबायोटिक है।
  • हडिडयांे और दाँतों में कल्सियम फाॅस्फेट होता है ।
  • थैलियम को ज्स थोरियम को ज्ी थूलियम को ज्उ एवं टर्बियम को ज्इ कहते है।

  • ठोस में ठोस के विलयन को मिश्रधातु कहते है।
  • वे विलयन जिन्हे अर्धपारगम्य झिल्ली द्वारा पृथक रखने पर उनके मध्य परासरण की क्रिया नही होती उन्हे समपरासरी विलयन कहते है।
  • अलवाय में मोनोजाइट केा संसाधित करने वाली फैक्टंी है।
  • शर्करा कार्बोहाइडंेट होते है, राइबोफ्लेविन को बिटामिन बी2 कहते है, काइटिन प्रोटीन होते है, कैफीन एल्केलाॅइड होते है।
  • मक्खन वह कोलाइड है जिसमें जल वसा में प्ररिक्षिप्त होता है।
  • डयूटीरियम के नाभिक में एक न्यूटंाॅन तथा एक प्रोटाॅन होता है।
  • वे अभिक्रियाएंे जो केवल एक दिशा में होती हैं अनुत्क्रमणीय अभिक्रियाएंे होती है।
  • वह जलीय विलयन जिसके पी0एच0 का मान शून्य होता है अम्लीय होता है।
  • शुद्व जल का पी0एच0 मान 7 होता है।
  • एक द्रव के वाष्पन के प्रक्रण के साथ एन्टंाॅपी में वृद्वि होती है तथा विलयन से सुक्रोज का क्रस्टलन करने पर एन्टंाॅपी घटती है।
  • ऊष्मागतिकी का प्रथम नियम ऊर्जा संरक्षण का नियम भी कहलाता है।
  • ऊष्माक्षेपी वह क्रिया है जिसमें अभिकारक पदार्थो की ऊर्जा उत्पादकों से अधिक होती है।
  • हेस के नियम के अनुसार किसी अभिक्रिया का उष्मीय प्रभाव क्रियाकारक पदार्थो की अन्तिम तथा प्रा रम्भिक अवस्था पर निर्भर करता है।
  • डी0डी0टी0  टंाइक्लोरो ऐसीटेल्डिहाइड की क्लोरोबेंजीन से अभिक्रिया के फलस्वरूप प्राप्त होता है।
  • पिक्रिक अम्ल का रासायनिक नाम टंाइनाइटंोफिनोल है।
  • धातुओं में मुक्त इलैक्टंाॅन के दबाव के कारण प्रकाश का परावर्तन होने से चमक आती है।
  • नायलाॅन , पाॅलिऐमाइड है।

  • बेकेलाइट थर्मोसेटिंग प्लास्टिक का बहुलक है।
  • उध्र्वपातन विधी द्वारा अमोनियम क्लोराइड व सोडियम क्लोराइड के मिश्रण केा पृथक किया जाता है।
  • प्राकृतिक हाइडंकार्बन के घटक के रूप में प्राप्त होने वाली निष्क्रिय गैस हीलियम है।
  • पौट ेशियम कक्ष ताप पर जल के साथ तीव्र क्रिया करती है।
  • टंाइटियम में इलैक्टंाॅन, प्रोटाॅन व न्यूटंाॅन 1: 1: 2 के अनुपात में होते है।
  • क्लेारोफार्म हवा एवं प्रकाश से क्रिया कर फाॅस्जीन गैस बनाती है इसलिये इसे रंगीन बोतलो में ऊपर तक भरा जाता है ।
  • हीलियम एक ऐसी गैस है जो परमाणु अवस्था में पायी जाती है।
  • हवाई जहाज के टायरों में भरने के लिए हीलियम गैस का प्रयोग किया जाता है।
  • चैल्कोपाइराइट काॅपर का अयस्क है।
  • मरकरी को आयरन धातु के पात्र में रखा जाता है।
  • नाभिकीय भटटी में ग्रेफाइट का प्रयोग न्यूटंाॅनों का वेग घटाने के लिए किया जाता है।
  • एल्कोहल , बेन्जीन एवं पेटंोल के मिश्रण केा पावर एल्कोहल कहते है।
  • सीमेन्ट के उत्पादन में काम आने वाले कच्चे पदार्थ बिना बुझा चूना एवं जिप्सम है , सीमेन्ट का जमना एक ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया है।
  • प्रोटाॅन के भेदन क्षमता इलैक्टंाॅन से कम होती है।
  • उदासीन परमाणु का धनायन इलैक्टंाॅन के निकलने से उत्पन्न होता है।
  • न्यूटंाॅन आवेश रहित होते है।
  • सबसे हल्का कण इलैक्टंाॅन है।
  • पौधो में पुष्पन के लिए उपयोगी तत्व फास्फोरस है ।
  • सेडीमेण्टेशन एवं फिल्टंेशन जल को शुद्व करने की तकनीक है।

  • मेक्स प्लांक जर्मनी के थे जिन्हे क्वाण्टम सिद्वान्त की खोज के लिए नोबेल पुरस्कार मिला था ।
  • आण्विक हाइडंोजन के आर्थो एवं पैरा रूपों केा नाभिकिय चक्रण के द्वारा विभेदित करते है।
  • यूरिया के निर्माण में आमोनिया तथा कार्बनडाइक्साइड प्रयुक्त होता है।
  • फिनाॅल से प्राप्त विस्फोटक केा पिक्रिक अम्ल कहते है।
  • मार्बल एक यौगिक का उदाहरण है।
  • पंचम समूह के तत्वों में बिस्मथ का आक्साॅइड अधिक क्षारीय होता है।
  • जब हाइडंोजन परमाणुओं के नाभिक का चक्रण एक ही दिशा में होता है तो वह आर्थो हाइडंोजन कहलाता है।
  • किसी गैस का वाष्पधनत्व उसके अणुभार का आधा होता है।
  • अम्ल में प्रोटाॅन प्रदान करने की प्रवृति होती है।
  • किसी परमाणु के गुण उसकी इलैक्टंाॅनिक संरचना पर निर्भर करता है।
  • दूध में उपस्थित सैकेराइड को लैक्टोज कहते है।
  • पाॅलिथीन एथिलीन के बहुलीकरण से प्राप्त होता है।
  • तनु आयोडिन विलयन की एक बून्द के साथ स्टार्च नीला रंग देता हैं।
  • शुष्क अग्निशामकों में रेत तथा बेकिंग सोडा भरा जाता है।
  • जो उत्प्रेरक अभिक्रिया के वेग को कम करते है उन्हें ऋणात्मक उत्प्रेरक कहते है।
  • वैद्युत संयोजक यौगिक में इलैक्टंाॅन एक परमाणु से दूसरे परमाणु में स्थानान्तरित हो जाते है।
  • विखण्डन अभिक्रिया में तत्व का एक भारी नाभिक टूटकर दो छोटे नाभिक बनाता है तथा कुछ मौलिक नाभिकीय कणों केा घटा देता है।
  • एक तत्व का परमाणु क्रमांक 34 है उसकी संयोजकता 6 होगी ।

  • जल एक यौगिक है चूकि यह रासायनिक बन्धनों से जुडे दो भिन्न तत्व रखता है।
  • हाइडंोजनपराॅक्साइड एक अपचायक , आक्सीकारक एवं विरजंक के रूप में कार्य कर सकता है परन्तु वह निर्जलीकारक की तरह व्यवहार नही कर सकता है।
  • उत्प्रेरक विष उत्प्रेरक सतह पर मुक्त संयोजकताओं से संयोग करके कार्य करता है।
  • किसी विलयन का जिसमें वैद्युत-अनपघटय विलय है उसका क्वथनांक बढता है।
  • तत्वों के रासायनिक वर्गीकरण का आधुनिक नियम तत्वों के परमाणु क्रमांक पर आधारित है।
  • काॅच को लाल रंग गोल्डक्लोराइड प्रदान करता है।
  • तेलो के हाइड्जनीकरण में उत्प्रेरक के रूप में निकिल का प्रयोग किया जाता है हाइडंोजनीकरण द्वारा खाद्य तेलों केा वनस्पति घी में बदला जाता है।
  • सोडियम नाइट्रेट एक ऐसा पदार्थ है जो आॅक्सीकारक तथा अपचायक दोनों की तरह प्रयोग में लाया जा सकता है।
  • पारे में बहुच उच्च आयनन ऊर्जा तथा क्षीण धात्विक बन्ध होता है इसलिए पारा 0 डिग्री से0 पर भी द्रव बना रहता है।
  • किसी अम्ल का तुल्यांकी भार उसके अणुभार को क्षारकता से विभाजित कर प्राप्त करते है।
  • लैड नाइट्रेट को गर्म करने पर रासायनिक परिवर्तन होता है।
  • काॅच भ् िमें विलेय होता है
  • जिंक में तनु सल्फ्यूरिक अम्ल मिलाकर हाइडंोजन गैस प्राप्त की जाती है। एन्थ्रासाइट कोयले में सर्वाधिक कार्बन की मात्रा होती है । बिटुमिनस कोयला विश्व में सर्वाधिक पाया जाता है। पीट कोयला सबसे निम्न कोटि का कोयला है।
  • मोनोजाइट थोरियम का अयस्क है । भारत में थोरियम सबसे अधिक मात्रा में पाया जाता है । थोरियम पर आधारित फास्ट ब्रिडर रियक्टर कलपक्कम में स्थापित किया गया है।
  • पारा, पारदित समिश्रित मंे अनिवार्य रूप से सम्मलित होता है ।
  • कार्नेलाइट मैग्निशियम का खनिज है।

  • गन मैटल, ताॅवा टिन और जिंक का मिश्र धातु है।
  • हेमेटाइट लौह अयस्क होता है ।
  • चुना और कोयले का प्रयोग लौह अयस्क को प्रगलित करने में होता है ।
  • चीटियां काटती है तो वे फोर्मिक अम्ल अन्तःक्षेपित करती है ।
  • मिथाइल एल्कोहल पीने से अन्धता आती है।
  • फोटो ग्राफी में ‘‘स्थायीकर‘‘ के रूप में सोडियम थायोसल्फेट प्रयोग होता है ।
  • संगमरमर के टुकडो पर हाइड्रोक्लोरिक अम्ल डालकर कार्बनडाईआॅक्साइड गैस प्राप्त की जाती है।
  • कार्बनडाइआक्साइड गैस एक एनहाइडंइड है ।

दोस्तों आपको यह Chemistry Most Important Facts in Hindi की Post कैसी लगी या आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप नीचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और नीचे रेटिंग अवश्य दे. आप daily updates के लिए हमसे Telegram Channel  से भी जुड़ सकते है.

टेलीग्राम चैनल – https://t.me/notespdfadda

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More